जानें श्राद्ध पक्ष में ब्राह्मण भोजन क्यों हैं आवश्यक और क्या हैं नियम

श्राद्ध पक्ष में ब्राह्मण भोजन: हिन्दू धर्म में अपने पूर्वजों की आत्मा की शांति और तृप्ति के लिए लोग पितृ पक्ष में श्राद्ध करते हैं। श्राद्ध में तर्पण, पिंड दान और ब्राह्मण भोजन का विशेष महत्व बताया जाता है। हिंदू धर्म में पितृपक्ष का बहुत महत्व है। मान्यता है कि इन दिनों में पितर धरती पर आते हैं। ऐसे […]

Shraddh 2018 पितृपक्ष में श्राद्ध विधि: पितरों को खुश करने के लिए क्या करें और क्या ना करें ?

पितरो के उद्देश्य से विधि पूर्वक जो कर्म श्रद्धा से किया जाता हैं, उसे श्राद्ध (Shraddh) कहते हैं | This year Shraddh Paksh 2018 will be from September 24 (Monday) till October 8, 2018 (Monday). श्राद्ध का वर्णन मनुस्मृति आदि धर्मशास्त्रों ग्रंथो से प्राप्त किया जा सकता हैं | कर्मपुराण पुराण के अनुसार जो व्यक्ति शान्त मन होकर विधिपूर्वक श्राद्ध […]

Sarva Pitru Amavasya 2019: जानिए मोक्षदायिनी सर्वपितृ अमावस्या का महत्‍व और श्राद्ध विधि

Sarva Pitru Amavasya 2019: भाद्रपद पूर्णिमा के दिन 13 सितंबर 2019 से शुरू हुए पितृपक्ष का समापन 28 सितंबर 2019 के दिन आश्विन माह की अमावस्या को सर्वपितृ अमावस्या के साथ होगा। 20 साल बाद इस बार सर्व पितृमोक्ष अमावस्या शनिवार के दिन रहेगी। सर्वपितृ अमावस्या के दिन शनिवार का महासंयोग अत्यंत सौभाग्यशाली है। हिन्दू शास्त्रों के मुताबिक जो कोई […]

Pitru Paksh 2019: किस तिथि पर किसका श्राद्ध करना चाहिए? जानिए श्राद्ध विधि व महत्व

Pitru Paksh 2019: आश्विन मास का कृष्ण पक्ष (अंधियारा पाख) को श्राद्ध पक्ष, पितृपक्ष (Pitru Paksh) कहते हैं, जो की पितरों के प्रति श्रद्धा, समर्पण के पर्व के रूप मे मनाया जाता हैं। पितृ पक्ष भाद्रपद महीने की पूर्णिमा से आरम्भ होकर आश्विन महीने की अमावस्या तक रहेगा। इन दिनों पितरों के लिए पर श्राद्ध कर्म, तर्पण किया जाता है। इस पक्ष में […]

Shraddh Paksh 2019: पूर्वजों को श्रद्धासुमन अर्पित करने का महापर्व, जानिए श्राद्ध की तिथियां, विधि व महत्व

Shraddh Paksh 2019: भाद्रपद की पूर्णिमा तिथि से आश्विन अमावस्या तक के समय को श्राद्ध पक्ष कहते हैं। पूर्वजों को श्रद्धासुमन अर्पित करने का महापर्व है पितृपक्ष का श्राद्ध। This year Shraddh Paksh 2019 will be from September 13 (Friday) till September 28, 2018 (Saturday). ये दिन पितरों को याद करने और उनसे आशीर्वाद लेने का है। उनकी पूजा करने […]

Rama Ekadashi 2019: कब है रमा एकादशी व्रत? जानें शुभ तिथि, पूजन विधि, कथा व महत्‍व

Rama Ekadashi 2019: कार्तिक मास के कृष्णपक्ष की एकादशी को रमा एकादशी के नाम से जाना जाता है। यह व्रत भगवान श्री कृष्ण को समर्पित है। रमा एकादशी दिवाली के त्‍यौहार के चार दिन पहले आती है। इस साल Rama Ekadashi 2019, 24 अक्टूबर को है। मान्यता के अनुसार, इस व्रत के प्रभाव से सभी पाप […]

Indira Ekadashi 2019: पितरों को मिलता है मोक्ष, जानिए इंदिरा एकादशी व्रत विधि, कथा व महत्व

Indira Ekadashi 2019: हिंदू धर्म में आस्था रखने वालों के लिये एकादशी तिथि का खास महत्व है। आश्विन माह के कृष्ण पक्ष में आने वाली एकादशी को इंदिरा एकादशी कहते है। पितृपक्ष में आने के कारण इस एकादशी को बहुत अधिक महत्वपूर्ण बताया गया है। इस पितृपक्ष में इंदिरा एकादशी 25 सितंबर 2019, बुधवार को आ रही […]

Bhadrapad 2019 Month: भादों महीने में ये आएंगे विशेष पुण्यदायी व्रत-त्यौहार

Hindu Festivals in Bhadrapad 2019 Month: The Bhaadon month (भादों महीना), popularly known as the Bhadrapad (भाद्रपद) month mainly devoted to Lord Vishnu is the sixth month of Hindu Lunar calendar (हिन्दू पंचांग). यह महीना भादौ, भादवा या भाद्र के नाम से भी जाना जाता है। इस बार Bhadrapad 2019 महीना, 16 अगस्त से 14 सितम्बर तक रहेगा। भाद्रपद का महीना, […]

मोक्षदायिनी सर्वपितृ अमावस्या का महत्व, मिलेगा समस्त पितरों का आशीष

सर्वपितृ अमावस्या के दिन ही सोमवती अमावस्या का महासंयोग बन रहा है यह अत्यंत सौभाग्यशाली संकेत है। 24 सितंबर 2018 से शुरू हुए पितृपक्ष का समापन 8 अक्टूबर 2018 के दिन आश्विन माह की कृष्ण अमावस्या को सर्वपितृ अमावस्या के साथ होगा। हिन्दू शास्त्रों के मुताबिक जो कोई अपने पितर (पितरों) का श्राद्ध पितृपक्ष में ना […]

Shraddh Paksh 2018 की तिथियां व महत्व – पूर्वजों को श्रद्धासुमन अर्पित करने का महापर्व

पूर्वजों को श्रद्धासुमन अर्पित करने का महापर्व है पितृपक्ष का श्राद्ध। भाद्रपद की शुल्क पक्ष की पूर्णिमा तिथि के दिन पितृ पक्ष यानि श्राद्ध पक्ष शुरू होते हैं। जो श्रद्धा से किया जाए उसे श्राद्ध कहा जाता है। भाद्रपक्ष की शुल्क पक्ष की पूर्णिमा तिथि  से आश्विन कृष्ण पक्ष अमावस्या तक के समय को श्राद्ध कहते हैं। […]