राजस्थान उच्च न्यायालय मुख्यपीठ के जोधपुर मे झालामंड क्षेत्र स्थित नवनिर्मित भवन का उद्घाटन 7 दिसम्बर को राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द करेंगे, Rajasthan High court new Building inauguration in Jodhpur, Rajasthan High Court Principal Seat, New Building of Rajasthan High Court
Administration in Jodhpur Events Infrastructure Monuments News Tourist Places

7 दिसंबर को राजस्थान उच्च न्यायालय के नए भवन का उद्घाटन करेंगे राष्ट्रपति कोविंद


राजस्थान उच्च न्यायालय मुख्यपीठ के जोधपुर मे झालामंड क्षेत्र स्थित नवनिर्मित भवन का उद्घाटन 7 दिसम्बर को राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द करेंगे। 4 साल की जगह 8 साल में बनकर तैयार हुए राजस्थान उच्च न्यायालय के नए भवन के उद्घाटन समारोह में भारत के उच्चतम न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश जस्टिस शरद अरविन्द बोबड़े, राजस्थान के राज्यपाल कलराज मिश्र, केन्द्रीय विधि मंत्री रविशंकर प्रसाद, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, कई अन्य राज्यों के मुख्य न्यायाधीश, राजनेता, VIPsविधि जगत से जुड़ी कई हस्तियां मौजूद रहेगी।

उद्घाटन समारोह में राजस्थान उच्च न्यायालय में मुख्य न्यायाधीश या न्यायाधीश के रूप में सेवाएं दे चुके सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश जस्टिस अरूण मिश्रा, जस्टिस नवीन सिन्हा, जस्टिस अजय रस्तोगी, जस्टिस दिनेश माहेश्वरी एवं जस्टिस एस. रविन्द्र भट भी सम्मिलित होंगे। उद्घाटन समारोह का लाइव प्रसारण भी सतीशचंद्र सभागार में किया जाएगा जिसे जयपुर के अधिवक्ता भी इस ऐतिहासिक समारोह को देख सकेंगे।


राजस्थान हाईकोर्ट प्रशासन, राजस्थान हाईकोर्ट मुख्यपीठ के नये भवन के उद्घाटन आयोजन की तैयारियों को अंतिम रूप देने में जुटा हुआ है। रंग-रोगन से लेकर इंटीरियर तक सारे काम हो चुके हैं। इस अद्वितीय बिल्डिंग को जगमग लाइटों से भी सजा दिया गया है।

उद्घाटन के बाद अगले दिन 8 दिसंबर को रविवार का अवकाश है और 9 दिसंबर को हाईकोर्ट के नए भवन में विधिवत रूप से याचिकाओं (मामलों) पर सुनवाई होगी। हाईकोर्ट के नए भवन में जजों के लिए कोर्ट रूम की व्यवस्था तय कर ली गई है।

यहां 9 दिसंबर को एक और ऐतिहासिक पल दर्ज होगा, इस दिन सीजे (CJ) सहित जोधपुर मुख्य पीठजयपुर पीठ के सभी 22 जज एक ही बैंच में बैठेंगे और मामलों की सुनवाई करेंगे। अगर ऐसा हुआ तो जयपुर बैंच बनने के 43 साल में यह पहला मौका होगा, जब जोधपुर मुख्य पीठ व जयपुर पीठ के सभी जज एक ही बैंच साथ बैठेंगे। वहीं हाईकोर्ट की फुल कोर्ट मीटिंग की भी संभावना है। 9 दिसंबर को केवल जयपुर पीठ में अवकाश घोषित किया गया है, जबकि जोधपुर मुख्यपीठ में कार्यदिवस रहेगा।

READ Too: 8 Places To Visit In Jodhpur During The Winter Season

संसद से भी बड़ा और टेक्नोलॉजी से भरपूर है राजस्थान उच्च न्यायालय का नया भवन

राजस्थान स्टेट रोड डवलपमेंट कारपोरेशन ने पाली रोड पर 11 अप्रैल 2011 को हाईकोर्ट के नए भवन का निर्माण शुरू किया था। जयपुर राष्ट्रीय राजमार्ग पर 168. 20 बीघा क्षेत्र में फैला उच्च न्यायालय का नवीन भवन न सिर्फ कलात्मक है, बल्कि मायनों में अनूठा और सुविधाओं से परिपूर्ण भी है।

हाईकोर्ट का मुख्य भवन 22. 61 बीघा क्षेत्र में निर्मित किया गया है जिसमें मुख्य न्यायाधीश के न्यायालय कक्ष सहित 22 न्यायालय कक्ष है, जहां जनता से जुड़े विभिन्न प्रकरणों की सुनवाई होगी। राजस्थान हाईकोर्ट का यह नया भवन टेक्नोलॉजी (technology) से भरपूर है। हाईकोर्ट का मुख्य डोम की जमीन से ऊंचाई 35 मीटर यानि करीब 120 फीट तथा डोम का व्यास 118 फीट का है। ये नया भवन भारत के संसद भवन से भी बड़ा बनाया गया है।

The Rajasthan High Court new building built at a cost of Rs 220 crores has been rounded up by incorporating the features of Vaastu. The reason behind Dome’s vastness is that the parties coming to this building will find peace and comfort. There are 3 separate entries each for the judges and registry officials, advocates and the high court staff, litigants and visitors.

राजस्थान हाईकोर्ट के नवनिर्मित भवन में कोर्ट रूम में चल रहे मामलों का संपूर्ण ब्यौरा Digital Software based Display Boards पर दिखाई देगा। डिस्प्ले बोर्डों में कोर्ट नंबर, न्यायाधीश का नाम, सुनवाई वाले प्रकरण के नंबर, शीर्षकअधिवक्ताओं के नाम नजर आएंगे। वाद सूची के अनुसार मुख्यपूरक वाद के नंबर भी डिस्प्ले होंगे। ये डिस्प्ले बोर्ड सभी 22 कोर्ट रूम के भीतर और बाहर, गैलेरी और एडवोकेट्स ब्लॉक में लगाए गए हैं। एडवोकेट्स ब्लॉक में कुल 42 डिस्प्ले बोर्ड होंगे।

READ ALSO: 20th Jodhpur Polo Season 2019 To Begin From November 25

नए हाइकोर्ट भवन में स्टाफ की उपस्थिति (attendance) बायोमैट्रिक्स से दर्ज होगी। यहां सुरक्षा के भी व्यापक बंदोबस्त किए गए हैं। एडवोकेट्स ब्लॉक से मुख्य भवन में प्रवेश करने से पहले बूम बेरियर से गुजरना होगा। यह एडवोकेट्स को जारी आरएफआइडी एंट्री कार्ड (RFId Entry Card) से खुलेगा।

मारवाड़ की सांस्कृतिक परंपरा एवं कलात्मक परिवेश को प्रदर्शित करने के लिए कोर्ट परिसर की दीवारों को मारवाड़ की चित्र शैली से भी सजाया गया है।

राजस्थान हाईकोर्ट का इतिहास

राजस्थान हाईकोर्ट का इतिहास 70 साल पुराना है। जोधपुर को न्यायिक राजधानी घोषित करते हुए राजस्थान हाईकोर्ट की स्थापना 29 अगस्त 1949 में की गई थी। राजस्थान के पूर्ण एकीकरण के बाद से जोधपुर में ही केवल हाईकोर्ट की बैंच थी। न्यायमूर्ति कमलकांत वर्मा पहले मुख्य न्यायाधीश नियुक्त हुए और उनके साथ 11 अन्य न्यायाधीशों ने भी शपथ ग्रहण की थी।

27 अक्टूबर 1956 को राष्ट्रपति ने जोधपुर में राजस्थान हाईकोर्ट की मुख्यपीठ घोषित की। राजस्थान हाईकोर्ट का हेरिटेज भवन का निर्माण तत्कालीन नरेश उम्मेदसिंह ने जॉर्ज पंचम के शासन की सिल्वर जुबली की यादगार के तौर में वर्ष 1935 में  करवाया था। भवन का निर्माण तत्कालीन पीडब्ल्यूडी मंत्री एसजी एडगर की देखरेख में जोधपुर निवासी गजधर हाजी मोहम्मद नागौरी सिलावट ने किया। भवन के निर्माण पर 4 लाख 50 हजार रुपए खर्च हुए।

वर्ष 1976 में जोधपुर मुख्यपीठ घोषित करते हुए हाईकोर्ट की एक और बैंच जयपुर में गठित कर दी। इसके बाद से आधे जज जयपुर और आधे जोधपुर में बैठ रहे थे।

ALSO READ: 14 मार्च से मंडोर एक्सप्रेस दिल्ली से बाड़मेर तक, मालाणी एक्सप्रेस बंद होगी

Connect with us through Facebook and follow us on Twitter for all latest updates of Hindu Tradition, Fasts & Festivals, and AapnoJodhpur and Rajasthan. Do comment below for any more information on  राजस्थान उच्च न्यायालय (Rajasthan High Court New Building).

About the author

Leave a Reply