Shani Amavasya: वैशाख कृष्ण पक्ष के आखिरी दिन 4 मई 2019 शनिवार को शनिश्चरी अमावस्या manai jaayegi। चूंकि अमावस्या तिथि शनिवार के साथ पड़ रही है, इसीलिए ise शनिश्चरी अमावस्या kahte है। अमावस्या की तिथि धार्मिक दृष्टि से बेहद शुभ, अत्‍यंत महत्‍वपूर्ण, पुण्यदायिनी है। Shani dev ke mantra, शनि के उपाय
Culture Dharmik

Shani Amavasya: शनि अमावस्या पर शनिदेव को प्रसन्न, पूजन करने के विशेष उपाय

Shani Amavasya: वैशाख कृष्ण पक्ष के आखिरी दिन 4 मई 2019 शनिवार को शनिश्चरी अमावस्या मनाई जाएगी। चूंकि अमावस्या तिथि शनिवार के साथ पड़ रही है, इसीलिए इसे शनिश्चरी अमावस्या (Shani Amavasya) कहते है। अमावस्या की तिथि धार्मिक दृष्टि से बेहद शुभ, अत्‍यंत महत्‍वपूर्ण, पुण्यदायिनी मानी जाती है। इसीलिए इस दिन अमावस्या होने से शनिवार का महत्व और अधिक बढ़ गया है।

शास्त्रों के अनुसार अमावस्‍या  की तिथि यदि शनिवार को आ रही हो तो यह और भी मंगलकारी मानी जाती है। यह तिथि पितरों को प्रसन्न करने तथा जीवन के सभी संकटों का नाश करने वाली मानी गई है। इस दिन शनिदेव की पूजा के साथ ही पितरों की पूजा का विशेष महत्व है।


यह दिन शनि भक्तों के लिए विशेष फलदायी माना जाता है। इस दिन शनिदेव अपने भक्तों पर कृपा बरसाकर उन्हें पापों व कष्टों से मुक्ति दिलाते हैं। कहते हैं आज के दिन शनिदेव की पूजा करने से, उनके निमित्त उपाय करने से शनिदेव बहुत जल्दी खुश होते हैं। साथ ही जन्मपत्रिका में शनि के अशुभ प्रभाव से होने वाली परेशानियों, जैसे शनि की साढे-साती, ढैय्या और कालसर्प योग से भी छुटकारे के लिए बहुत महत्वपूर्ण दिन  है।

आइए जान‍ते हैं की इस दिन ऐसा क्या करें, क्या दान करे और ऐसा क्या उपाय करे जिससे हमारे समस्त संकटों के समाधान हो जाए –

Shani Amavasya के दिन क्या करें?

  • शनिवार का व्रत रखें।
  • ब्रह्म मुहूर्त में उठकर स्नान के पश्चात् शनिदेव की पूजा करें। शनि कवच, स्तोत्र, मंत्र का जप करें।
  • शनिवार व्रत कथा पढ़ना भी लाभकारी रहता है।
  • सायंकाल हनुमान जी या भैरव जी के दर्शन करें।

ये पढ़ेंसौभाग्य दिलाने वाली वरुथिनी एकादशी व्रत कथा, महत्व एवं पूजा विधि

शनि अमावस्या के दिन कौन सी चीजों का दान करना चाहिए?

  • शनि की प्रसन्नता के लिए शनि मंदिरों में या किसी सुपात्र व्यक्ति या पंडित को काली उड़द, काली राई, काले तिल, सरसों का तेल, इन्द्रनील (नीलम), कुलथी, भैंस, लौह पात्र, गुड़, श्याम वस्त्र, नीलवर्ण वस्त्र और दक्षिणा दान करें। इससे इच्छित फल की प्राप्ति होती है।
  • शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए काला कम्बल और तेल का दान करना भी अच्छा माना जाता है।

शनि के उपाय

  • शनिवार को काले तिल, सौंफ, नागरमोथा और लोध मिले हुए जल से स्नान करें।
  • शनिचरी अमावस्या के दिन किसी प्राचीन शिवलिंग का रुद्राभिषेक करके शिवलिंग को चंदन युक्त धूप, तेल, सुगंध अथवा इत्र अर्पित करने से कालसर्प दोष से होने वाले कष्टों से मुक्ति मिलती है।
  • इस दिन पवित्र नदियों में स्नान करके पितरों के निमित्त पिंड दान, तर्पण, दान आदि भी किए जाते हैं। इन उपायों से शनि दोष के प्रभाव से मुक्ति मिलती है तथा जीवन खुशहाल होता है।
  • सुबह नहा धोकर पीपल देवता (पेड़) को जल, दूध, काले तिल, गंगाजल अर्पित कर पीपल की परिक्रमा करे।
  • शनिवार को पीपल वृक्ष के चारों ओर 7 बार कच्चा सूत लपेटें।
  • शनिचरी अमावस्या के दिन राहु काल में सिंह पर विराजमान मां दुर्गा का ध्यान करते हुए एक माला ‘नमः शिवाय ॐ नमः शिवाय’ का जप करें।
  • शनिवार के दिन अपने हाथ के नाप का 19 हाथ काला धागे की माला बनाकर पहनें।
  • शनि अमावस्या वाले दिन हनुमान जी को चमेली के तेल का दीपक जलाएं और गुड़केले का भोग लगाएं। ऐसा करने से हनुमानजी प्रसन्न होते हैं। शनि अमावस्या पर श्री हनुमते नम: मंत्र का जाप करें। इस मंत्र को करने से शनि की टेढ़ी नजर आप पर नहीं पड़ेगी।
  • शनि अमावस्या के दिन हनुमानजी की पूजा कर उन्हें तुलसी की माला पहनाएं। ऐसी मान्यता है कि तुलसी की माला हनुमानजी को बहुत पसंद होती है। ऐसी मान्यता है की जो व्यक्ति हनुमानजी की पूजा करता है, शनिदेव उस पर अपनी कृपा बरसाते हैं।
  • शनि अमावस्या पर काले वस्त्र में रखकर सिक्कों का दान करने से पैसो की किल्लत कम होती हैं।
  • शनिवार को पीपल के नीचे सरसों के तेल का दीपक प्रज्ज्वलित करें तथा ज्ञात अज्ञात अपराधों के लिए क्षमा मांगें।
  • शनिवार के दिन काले घोड़े की नाल या नाव की सतह की कील का बना छल्ला मध्यमा में धारण करें।
  • आज के दिन घर पर शमी, जिसे खेजड़ी भी कहते हैं, गमले में लगाइए और गमले के चारों तरफ काले तिल डाल दीजिये। ‘शमी शम्यते पापं’, यानी शमी का पेड़ पापों का शमन करता है और परेशानियों से मुक्ति दिलाता है।

ये भी पढ़ें: मोक्षदायिनी सर्वपितृ अमावस्या का महत्व, मिलेगा समस्त पितरों का आशीष

शनि देव के मंत्र

सूर्य पुत्रो दीर्घ देहो विशालाक्ष: शिव प्रिय:
मंदाचाराह प्रसन्नात्मा पीड़ां दहतु में शनि:।। 

———

शं शनैश्चराय नमः।

———

प्रां प्रीं प्रौ सं शनैश्चराय नमः।

———

नमो भगवते शनैश्चराय सूर्यपुत्राय नमः।

———

मंगलकारी Shani Amavasya की हार्दिक शुभकामनाएं !!

Connect with us through Facebook for all latest updates on Hindu Tradition, Fasts and FestivalsLet us know for any query or comments. Do comment below for any more information or query on Shani Amavasya.

(इस आलेख में दी गई Shani Amavasya की जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं।)

About the author

Leave a Reply