Sheetala Ashtami 2022 date, शीतला माता के रूप का अर्थ, शीतला अष्टमी पूजन विधि, बासी खाना भोग की सही विधि, बसौड़ा पर्व का महत्व, बास्योड़ा पर्व, kaaga mandir jodhpur
Culture Dharmik Festivals

Sheetala Ashtami 2022: क्यों खाया जाता है शीतला अष्टमी पर बासी खाना? जानिए शीतला अष्टमी पूजन विधि, शीतला माता के स्वरूप के प्रतीकात्मक अर्थ, व बसौड़ा पर्व का महत्व

Sheetala Ashtami 2022: शीतला अष्टमी का पर्व होली के आठ दिन बाद चैत्र मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी को मनाया जाता हैं। इस साल Sheetala Ashtami 2022, 25 मार्च शुक्रवार के दिन हैं। कुछ लोग शीतला सप्तमी (24 मार्च) भी पूजते हैं। शीतला अष्टमी पर शीतला माता का पूजन किया जाता है और बसौड़ा का प्रसाद लगाया जाता है।

ऐसी मान्यता है कि शीतला सप्तमी और शीतला अष्टमी की पूजा करने के बाद शीतला माता की कथा सुनने से माता शीतला प्रसन्न होती हैं और पूजा का सम्पूर्ण फल प्राप्त होता है। शीतला माता को अत्यंत शीतल माना जाता है और बच्चों को कई बीमारियों से रक्षा करती हैं।

शीतला अष्टमी के दिन घर में अग्नि जलाना निषिद्ध होता है, इसलिए लोग अपने लिए भी एक दिन पहले ही खाना बना लेते हैं। इस पर्व में एक दिन पूर्व बनाया हुआ भोजन किया जाता है, अत: शीतला अष्टमी को बसौड़ा, बास्योड़ा, बसियौरा, बसोरा, बासौड़ा पर्व भी कहते हैं। शीतला मां की पूजा में प्रसाद के रूप में ठंडाबासी भोजनदही, राब, सोगरा, बाजरी और घी इत्यादि चढ़ाया जाता है और परिवार की सुख-समृद्धि की कामना की जाती हैं।

शीतला माता का वर्णन स्कंद पुराण में भी मिलता है। इसके अनुसार देवी शीतला को दुर्गा और पार्वती का अवतार माना गया है और इन्हें रोगों से उपचार की शक्ति प्राप्त है। ठंडा भोजन खाने के पीछे भी एक धार्मिक मान्यता भी है कि माता शीतला को शीतल, ठंडा व्यंजन ओर जल पसंद है। इसलिए माता को ठंडा (बासी) व्यंजन का ही भोग लगाया जाता है, इससे शीतला माता प्रसन्न होती है।

घरों में सप्तमी के दिन कई तरह के पकवान- हलवा, पूरी, केर सांगरी की सब्जी, दही बड़ा, पकौड़ी, पुए रबड़ी, राबरी, चावल, सोगरा, आदि बनाए जाते हैं। अगले दिन अष्टमी की सुबह महिलाएं इन चीजों का भोग शीतला माता को लगाकर परिवार की सुख-समृद्धि की कामना करती हैं। इस दिन परिवार के सभी सदस्य भी ठंडे पानी से स्नान करते है और पहले से बनाया हुवा बासी भोजन प्रसाद के रूप मे ग्रहण करते हैं।

आइए जानते हैं क्यों मनाया जाता है शीतला अष्टमी का पर्व, शीतला माता के स्वरूप के प्रतीकात्मक अर्थ, शीतला अष्टमी के पूजा मुहूर्तशीतला माता पूजन विधि और महत्व के बारे में-

ये पढ़ेंमारवाड़ में अनूठी है धींगा गवर पूजन की संस्कृति

शीतला माता के स्वरूप के प्रतीकात्मक अर्थ

Sheetala Ashtami 2021 date, क्यों मनाया जाता है शीतला अष्टमी का पर्व? शीतला माता के रूप का अर्थ, शीतला अष्टमी पूजन विधि, बास्योड़ा का महत्वशीतला माता के स्वरूप के प्रतीकात्मक अर्थ हैं। शीतला माता यानी पर्यावरण के शुद्धिकरण की देवी, जो सृष्टि को विषाणुओं से बचाने का संदेश देती है। माता को साफ-सफाई, स्‍वस्‍थता और शीतलता का प्रतीक माना जाता है।

उनके वस्त्रों का रंग लाल होता है जो खतरे और सतर्कता का प्रतीक माना जाता है। शीतला माता की चारों भुजाओं में झाड़ू, घड़ा, सूप और कटोरा सुशोभित होते हैं जो सफाई का प्रतीक चिन्ह हैं। उनकी सवारी गधा है, जो उन्हें गंदे स्थानों की ओर ले जाती है। झाड़ू उस स्थान की सफाई करने के लिए तो सूप कंकड़-पत्थर को अलग करने के लिए है। घड़े में भरा गंगा जल उस स्थान को विषाणु मुक्त करने के लिए एक प्रतीक के रूप में उनके एक हाथ में होता है।

Sheetala Ashtami 2022 Date and पूजन मुहूर्त

शीतला अष्टमी 2022 – 25 मार्च शुक्रवार
अष्टमी तिथि प्रारम्भ – 24 मार्च 2022, गुरुवार मध्य रात 12 बजकर 09 मिनट (25 मार्च)
अष्टमी तिथि समाप्त – 25 मार्च 2022, शुक्रवार रात 10 बजकर 04 मिनट पर तक।

शीतला अष्टमी पूजन मुहूर्त – 25 मार्च 2022, शुक्रवार प्रातः 08 बजकर 12 मिनट से प्रातः 11 बजकर 10 मिनट तक।

बास्योड़ा लोकपर्व है, यह लोकमान्यता के अनुसार ही मनाया जाता है। ढूंढाड़ में यह लोकपर्व ठंडे वार को मनाया जाता है। जबकि मारवाड़ में यह परम्परा नहीं है, वहां लोकमान्यता होली के बाद अष्टमी तिथि को ही बास्योड़ा मनाया जाता है।

शीतला माता पूजन विधि

शीतला माता की पूजा के दिन घर पर चूल्हा नहीं जलता। माता के प्रसाद के लिए व परिवार जनों के भोजन के लिए, एक दिन पहले ही सब कुछ पकाया जाता है। माता को सफाई काफी पसंद है इसलिए घर पर सब कुछ साफ-सुथरा होना बेहद आवश्‍यक है।

शीतला माता की पूजा के एक दिन पहले हलवा, खाजा, चूरमा, मगद, नमक पारे, शक्कर पारे, बेसन चक्की, पुए, पकौड़ी, राबड़ी, बाजरे की रोटी, पूड़ी, सब्जी आदि बनाई जाती हैं। कुल्हड़ में मोठ, बाजरा भिगो दें। इनमें से कुछ भी पूजा से पहले नहीं खाना चाहिए। माता जी की पूजा के लिए ऐसी रोटी बनानी चाहिए जिनमे लाल रंग के सिकाई के निशान नहीं हों। पूजा के एक दिन पहले रात को सारा भोजन बनाने के बाद रसोईघर की साफ सफाई करें। इसके बाद चूल्हा नहीं जलाना चाहिए।

  1. अष्टमी के दिन प्रात: काल ठंडे जल से स्नान करके शीतला माता, औरई माता, अचपड़ा जी, पंथवारी जी की पूजा विधि-विधान से करनी चाहिए।
  2. स्नान और पूजा के वक्त ‘हृं श्रीं शीतलायै नमः‘ का उच्चारण करते रहें।
  3. स्नान करने के बाद इस मंत्र से संकल्प लें-
    ‘मम गेहे शीतलारोगजनितोपद्रव प्रशमन…
    पूर्वकायुरारोग्यैश्वर्याभिवृद्धिये शीतलाष्टमी व्रतं करिष्ये’
  4. एक थाली थोड़ा दही, राबड़ी, चावल (ओलिया), पुआ, पकौड़ी, नमक पारे, रोटी, शक्कर पारे, भीगा मोठ, बाजरा आदि जो भी बनाया हो रखें।
  5. एक अन्य थाली में रोली, चावल, मेहंदी, काजल, हल्दी, लच्छा (मोली), वस्त्र, एक माला व सिक्का रखें।
  6. शीतल जल व दूध का कलश भर ले।
  7. पूजा के लिए साफ सुथरे और सुंदर वस्त्र पहनने चाहिए।
  8. इसके बाद मन्दिर में जाकर पूजा करें। यदि शीतला माता घर पर हो तो, घर पर पूजा कर सकते हैं।
  9. सबसे पहले माता जी को जल से स्नान कराएं। दूधघी का भोग लगाए।
  10. रोली और हल्दी से टीका करें। काजल, मेहंदी, लच्छा, वस्त्र अर्पित करें।
  11. पूर्व रात्रि को बनाया गया बासी भोजन (दही, राबड़ी, चावल, हलवा, पूरी, गुलगुले आदि) का भोग माता को लगाए।
  12. पूजन सामग्री अर्पित करें।
  13. बिना नमक का आटा पानी से गूंथकर इस आटे से एक छोटा दीपक बना लें। इस दीपक में रुई की बत्ती घी में डुबोकर लगा लें। यह दीपक बिना जलाए ही माता जी को चढ़ाया जाता है।
  14. हाथ जोड़ कर माता से प्रार्थना करें – हे माता, मान लेना और शीली ठंडी रहना
  15. आरती या गीत गा कर मां की अर्चना करें।
  16. अंत में वापस जल चढ़ाएं और चढ़ाने के बाद जो जल बहता है, उसमें से थोड़ा जल लोटे में डाल लें। यह जल पवित्र होता है। इसे घर के सभी सदस्य आंखों पर लगाएं। थोड़ा जल घर के हर हिस्से में छिड़कना चाहिए। इससे घर की शुद्धि होती है पॉजिटिव एनर्जी आती है।
  17. पंथवारी माता जी का ध्यान कर उनको भी ऐसे ही पूजे।
  18. साथ ही शीतला माता की कथा सुनें।

इस प्रकार शीतला माता की पूजा संपन्न होती है। ठंडे व्यंजन सपरिवार मिलजुल कर खाएं और शीतला माता पर्व का आनंद उठाएं।

ये पढ़ेंक्यों की जाती है आंवले के वृक्ष की पूजा? जानिए आमलकी एकादशी व्रत-पूजा विधि, नियम, पावन व्रत कथा और महत्व

क्यों मनाया जाता है शीतला अष्टमी का पर्व?

होली के बाद अष्टमी तिथि को आने वाला शीतला अष्टमी का पर्व राजस्थान में ही नहीं पूरे उतरी भारत में बड़े उत्साह और श्रद्धा के साथ मनाया जाता है।

हिंदू धर्म की सबसे अहम बात यही है कि यह वैज्ञानिक और आध्यात्म‍िक है। ये अष्टमी ऋतु परिवर्तन (शीत ऋतु के खत्म होने और ग्रीष्म ऋतु की शुरुआत) का संकेत देती है, ज‍िसके कारण संक्रामक रोगों का खतरा बढ़ जाता है। गर्मी के मौसम में चेचक, बुखार और हैजा जैसे संक्रामक रोग अधिक फैलते हैं। इन्हीं संक्रामक रोगों से बचाव के लिए शीतला अष्टमी का पर्व मनाया जाता है।

शीतला माता को चेचक की देवी माना जाता है। स्कंद पुराण के अनुसार ब्रह्मा जी ने सृष्टि को स्वस्थरोगमुक्त रखने का जिम्मा शीतला माता को दिया था। सफाई की प्रतीक, अरोग्यता देने वाली शीतला माता शीतलता यानी ज्वर, ताप या अग्नि उत्पन्न करने वाले रोगों से मुक्त करती है।

यही वजह है कि लोग गर्मी के प्रकोप से बचने और संक्रामक रोगों से मुक्त रहने के लिए शीतला माता की पूजा करते हैं।

शीतला माता पूजन का महत्व

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार शीतला माता की पूजा करने से चिकन पॉक्स यानी माता, खसरा, फोड़े, नेत्र रोग नहीं होते है। माता इन रोगों से रक्षा करती है।

मान्यता है कि शीतला माता की पूजा करने से बच्चों की सेहत अच्छी बनी रहती है। उनके आर्शीवाद से दाहज्वर, पीतज्वर, विस्फोटक, दुर्गंधयुक्त फोड़े, शीतला की फुंसियां, शीतला जनित दोष और नेत्रों के समस्त रोग दूर हो जाते हैं। शीतला माता की पूजा से स्वच्छता और पर्यावरण को सुरक्षित रखने की प्रेरणा भी मिलती है।

शीतले त्वं जगन्माता
शीतले त्वं जगत् पिता।
शीतले त्वं जगद्धात्री
शीतलायै नमो नमः।।
|| जय शीतला माता की – Sheetala Ashtami  2022 ||

AapnoJodhpur team Wishes Happy Sheetla Ashtami  2022. Also, Connect with us through Facebook and follow us on Twitter for regular updates on Dharma, Hindu Tradition, Vrat, Festivals, and Culture. Do comment below for any more information or query on Sheetala Ashtami 2022.

(इस आलेख में दी गई Sheetala Ashtami 2022 की जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।)

Please follow and like us:

About the author

Leave a Reply