Sarva Pitru Amavasya 2019: जानिए मोक्षदायिनी सर्वपितृ अमावस्या का महत्‍व और श्राद्ध विधि।13 सितंबर से शुरू हुए पितृपक्ष का समापन 28 सितंबर के दिन आश्विन माह की अमावस्या को सर्वपितृ अमावस्या के साथ होगा। सर्वपितृ अमावस्या के दिन शनिवार का महासंयोग अत्यंत सौभाग्यशाली है। जानिए सर्वपितृ अमावस्या Date, time
Culture Dharmik

Sarva Pitru Amavasya 2019: जानिए मोक्षदायिनी सर्वपितृ अमावस्या का महत्‍व और श्राद्ध विधि

Sarva Pitru Amavasya 2019: भाद्रपद पूर्णिमा के दिन 13 सितंबर 2019 से शुरू हुए पितृपक्ष का समापन 28 सितंबर 2019 के दिन आश्विन माह की अमावस्या को सर्वपितृ अमावस्या के साथ होगा। 20 साल बाद इस बार सर्व पितृमोक्ष अमावस्या शनिवार के दिन रहेगी। सर्वपितृ अमावस्या के दिन शनिवार का महासंयोग अत्यंत सौभाग्यशाली है। हिन्दू शास्त्रों के मुताबिक जो कोई […]

Shraddh Paksh: जानें श्राद्ध पक्ष में ब्राह्मण भोजन क्यों हैं आवश्यक और क्या हैं नियम? Why brahmin bhoj is necessary during Shraddh (pitru) paksh, Important rules what and how to prepare brahman bhoj during Shraddh, श्राद्ध के भोजन में रखें क्या सावधानियां, श्राद्ध पर भोजन करने आए ब्राह्मण के लिए नियम
Culture Dharmik Khaan-Paan

जानें श्राद्ध पक्ष में ब्राह्मण भोजन क्यों हैं आवश्यक और क्या हैं नियम

श्राद्ध पक्ष में ब्राह्मण भोजन: हिन्दू धर्म में अपने पूर्वजों की आत्मा की शांति और तृप्ति के लिए लोग पितृ पक्ष में श्राद्ध करते हैं। श्राद्ध में तर्पण, पिंड दान और ब्राह्मण भोजन का विशेष महत्व बताया जाता है। हिंदू धर्म में पितृपक्ष का बहुत महत्व है। मान्यता है कि इन दिनों में पितर धरती पर आते हैं। ऐसे […]

Pitru Paksh 2019: किस तिथि पर किसका श्राद्ध करना चाहिए? जानिए श्राद्ध विधि व महत्व। पितृ पक्ष 2019 will be from September 13 (भाद्रपद की शुल्क पक्ष की पूर्णिमा) till September 28 (आश्विन कृष्ण पक्ष की अमावस्या. श्राद्ध करने की सरल विधि व महत्व। पितृ पक्ष में किस तिथि पर किसका श्राद्ध होता है, जानिए
Culture Dharmik Festivals

Pitru Paksh 2019: किस तिथि पर किसका श्राद्ध करना चाहिए? जानिए श्राद्ध विधि व महत्व

Pitru Paksh 2019: आश्विन मास का कृष्ण पक्ष (अंधियारा पाख) को श्राद्ध पक्ष, पितृपक्ष (Pitru Paksh) कहते हैं, जो की पितरों के प्रति श्रद्धा, समर्पण के पर्व के रूप मे मनाया जाता हैं। पितृ पक्ष भाद्रपद महीने की पूर्णिमा से आरम्भ होकर आश्विन महीने की अमावस्या तक रहेगा। इन दिनों पितरों के लिए पर श्राद्ध कर्म, तर्पण किया जाता है। इस पक्ष में […]

Shraddh Paksh 2019: पूर्वजों को श्रद्धासुमन अर्पित करने का महापर्व, जानिए श्राद्ध की तिथियां, विधि व महत्व। भाद्रपद की पूर्णिमा तिथि से आश्विन अमावस्या तक के समय को श्राद्ध पक्ष (Pitru Paksh) कहते हैं। This year Shraddh Paksh 2019 will be from September 13 (Friday) till September 28, 2018 (Saturday).
Culture Dharmik

Shraddh Paksh 2019: पूर्वजों को श्रद्धासुमन अर्पित करने का महापर्व, जानिए श्राद्ध की तिथियां, विधि व महत्व

Shraddh Paksh 2019: भाद्रपद की पूर्णिमा तिथि से आश्विन अमावस्या तक के समय को श्राद्ध पक्ष कहते हैं। पूर्वजों को श्रद्धासुमन अर्पित करने का महापर्व है पितृपक्ष का श्राद्ध। This year Shraddh Paksh 2019 will be from September 13 (Friday) till September 28, 2018 (Saturday). ये दिन पितरों को याद करने और उनसे आशीर्वाद लेने का है। उनकी पूजा करने […]

Shraddh 2018 पितृपक्ष में श्राद्ध विधि: क्या करें और क्या ना करें, Shraddh Paksh 2018 की तिथियां व महत्व – पूर्वजों को श्रद्धासुमन अर्पित करने का महापर्व
Culture Festivals

Shraddh 2018 पितृपक्ष में श्राद्ध विधि: पितरों को खुश करने के लिए क्या करें और क्या ना करें ?

पितरो के उद्देश्य से विधि पूर्वक जो कर्म श्रद्धा से किया जाता हैं, उसे श्राद्ध (Shraddh) कहते हैं | This year Shraddh Paksh 2018 will be from September 24 (Monday) till October 8, 2018 (Monday). श्राद्ध का वर्णन मनुस्मृति आदि धर्मशास्त्रों ग्रंथो से प्राप्त किया जा सकता हैं | कर्मपुराण पुराण के अनुसार जो व्यक्ति शान्त मन होकर विधिपूर्वक श्राद्ध […]

Shraddh Paksh 2018: पूर्वजों को श्रद्धासुमन अर्पित करने का महापर्व - श्राद्ध की तिथियां व महत्व
Culture Festivals

Shraddh Paksh 2018 की तिथियां व महत्व – पूर्वजों को श्रद्धासुमन अर्पित करने का महापर्व

पूर्वजों को श्रद्धासुमन अर्पित करने का महापर्व है पितृपक्ष का श्राद्ध। भाद्रपद की शुल्क पक्ष की पूर्णिमा तिथि के दिन पितृ पक्ष यानि श्राद्ध पक्ष शुरू होते हैं। जो श्रद्धा से किया जाए उसे श्राद्ध कहा जाता है। भाद्रपक्ष की शुल्क पक्ष की पूर्णिमा तिथि  से आश्विन कृष्ण पक्ष अमावस्या तक के समय को श्राद्ध कहते हैं। […]