RBSE Board Exam 2021: राजस्थान बोर्ड 10वीं, 12वीं की परीक्षाएं रद्द, How marks will be calculated in RBSE Board exam, Raj Board exam results, board exams 2021 live updates
Education News School

Rajasthan Board Exams 2021: RBSE 10वीं, 12वीं की परीक्षाएं रद्द; मंत्री परिषद की बैठक में हुआ फैसला


Rajasthan Board Exams 2021: कोविड-19 महामारी  के बढ़ते मामलों के बीच देशभर में बोर्ड परीक्षाओं के आयोजन पर मंडराये संशय के बादल अब छंटते नजर आ रहे हैं। आरबीएसई ne 10वीं 12वीं बोर्ड परीक्षाएं रद्द कर दीं गई हैं। बुधवार शाम हुई कैबिनेट बैठक में कोरोना महामारी के चलते छात्रों के स्वास्थ्य व सुरक्षा को ध्यान में रखकर CBSE की तर्ज पर परीक्षाएं न कराने का फैसला लिया गया। बैठक में सीएम अशोक गहलोत, शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा समेत कई अन्य मंत्री व वरिष्ठ शिक्षा अधिकारी मौजूद थे।

Central Board of Secondary Education (CBSE) और ISC बोर्ड के बाद हरियाणा, गुजरात, उत्तराखंड, पश्चिम बंगाल और मध्यप्रदेश द्वारा सूबे में बोर्ड परीक्षाओं को निरस्त करने के क्रम में राजस्थान बोर्ड का भी नाम जुड़ गया है। परीक्षाओं को लेकर राजस्थान सरकार के मंत्री परिषद की बैठक बुधवार शाम छह बजे मुख्यमंत्री निवास पर हुई थी।


राजस्थान के शिक्षा मंत्री गोविंद डोटासरा ने जानकारी दी कि राजस्थान में 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं पर अंतिम निर्णय को लेकर 02 जून बुधवार को अहम बैठक हुई। कैबिनेट की बैठक में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से चर्चानुसार  बोर्ड परीक्षाओं को लेकर अंतिम निर्णय किया गया है। बैठक में माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की परीक्षाओं को निरस्त करने तथा मूल्यांकन के नियम तय करने को लेकर विचार – विमर्श किया गया।

राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के चेयरमैन डॉ डीपी जारोली ने बताया कि राज्य में 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं में 21.58 लाख से ज्यादा विद्यार्थी पंजीकृत हैं। इसमें 10वीं में करीब 12 लाख व 12वीं में करीब साढे़ 9 लाख स्टूडेंट हैं। राज्य में 15 जून से नया शैक्षणिक सत्र शुरू करने की तैयारी है। इस संबंध में शिक्षा विभाग को प्रस्ताव भेजा गया है। कोरोना महामारी के कारण राज्य में अब 125 शिक्षकों की मौत हो चुकी है। ऐसे में परीक्षाओं का आयोजन संभव नहीं है।

इससे पहले मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई उच्च स्तरीय बैठक में सीबीएसई और आईएससी बोर्ड की 12वीं की परीक्षाओं के निरस्त किए जाने का निर्णय किया गया था। इस फैसले के बाद कई राज्यों में प्रस्तावित बोर्ड परीक्षाओं को लेकर दोबारा मंथन शुरू हो गया है।

लाखों अभ्यर्थी कोरोना महामारी के दौरान परीक्षाओं के आयोजन का विरोध कर रहे हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी मंगलवार की बैठक में यही कहा था कि छात्रों की सुरक्षा हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता है। ऐसे भय और तनाव के माहौल में हमारे युवाओं को परीक्षाओं में बैठने के लिए मजबूर नहीं किया जाना चाहिए। पीएम ने कहा कि देश भर में कोविड-19 महामारी की स्थिति लगातार बदल रही है।

हालांकि, देश में नए मामलों की संख्या कम हो रही है और कुछ राज्य प्रभावी सूक्ष्म-नियंत्रण के माध्यम से स्थिति का प्रबंधन कर रहे हैं, कुछ राज्यों ने अभी भी तालाबंदी का विकल्प चुना है। ऐसे में छात्रों के स्वास्थ्य को लेकर छात्र, अभिभावक और शिक्षक स्वाभाविक रूप से चिंतित हैं।

कैबिनेट बैठक के बाद गोविंद सिंह डोटासरा ने बताया कि छात्रों के स्वास्थ्य, सुरक्षा और हित को ध्यान में रखकर इस वर्ष परीक्षा ना कराने का फैसला किया गया है। छात्रों को किस आधार पर मार्क्स दिए जाएंगे, इसका फॉर्मूला राजस्थान बोर्ड और शिक्षा विभाग के अधिकारी मिलकर तय करेंगे। अगर कोई छात्र मार्क्स से असंतुष्ट रहता है तो सीबीएसई की तरह उसे भी हालात सामान्य होने पर परीक्षा देने का मौका दिया जाएगा।

गहलोत सरकार के इस फैसले से इस वर्ष आरबीएसई 10वीं 12वीं परीक्षा के लिए पंजीकृत 21 लाख से ज्यादा विद्यार्थियों को राहत मिली है। पिछले कई दिनों से छात्र और अभिभावक कोरोना के बीच परीक्षा के आयोजन का विरोध कर रहे थे और इसे रद्द करने की मांग कर रहे थे। शिक्षा मंत्री ने कहा कि बैठक में बोर्ड परीक्षाओं को निरस्त करने के बाद रिजल्ट तैयार करने के लिए दूसरे विकल्पों पर भी चर्चा हुई। हालांकि, यह अभी तक साफ नहीं हो पाया है कि बोर्ड किसी आधार पर छात्रों के रिजल्ट तैयार करेगा।

राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की 10वीं और 12वीं की परीक्षाएं इस बार 6 मई से शुरू होने वाली थी लेकिन कोविड-19 महामारी की भयावह लहर के चलते इन्हें स्थगित कर दिया गया था। हालांकि सीबीएसई के फैसले से पहले शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने बार-बार परीक्षा कराने के संकेत दिए थे। राजस्थान बोर्ड भी परीक्षाओं को करवाने के पक्ष में नजर आया था।

राजस्थान के भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. सतीश पूनियां ने सीबीएसई बारहवीं की परीक्षा रद्द करने के निर्णय को छात्रों की सुरक्षा में उचित निर्णय बताते हुए राज्य सरकार से राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के परीक्षार्थियों के हित में भी ऐसा ही निर्णय लेने की मांग की थी।

We wish best wishes to all students of Rajasthan Board Exams 2021 to have a better and brighter future.

Have any doubts or queries, you can post in the below comment box. Connect with us for all the latest updates through Facebook and follow us on Twitter.


About the author

Leave a Reply